Bright Side Plantation at shaheed mangejsingh Park

ब्राइट साइड फाउण्डेशन ने विश्व पर्यावरण दिवस पर जयपुर झोटवाडा में कारगिल शहीद मंगेजसिंह पार्क में पौधारोपण किया। पूर्व पार्षद नरेन्द्र वशिष्ठ, फाउण्डेशन संस्थापक के के शर्मा, प्रबंध न्यासी दीपक वर्मा सहित कई गणमान्य लोगों ने मिलकर शहीद पार्क में सौ पौधे रोपकर पर्यावरण संरक्षण व संर्वद्वन का संदेश दिया।

Advertisements

युवा पाटीदारों में महाभारत

करोडों के खेल में डूबे आंदोलनकारीअहमदाबाद. पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति के सदस्यों के बीच अब महाभारत सुरु हो गई है, समिति संयोजक हार्दिक पटेल ने उनका साथ छोड़ने वालों पर मोटी रकम लेकर भाजपा का साथ देने व उनका विरोध करने का आरोप लगाया था जिसके बाद उनके दाहिने हाथ माने जाने वाले दिनेश बामनिया ने उनके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया है.
पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने सोशल मीडिया पर एक मेसेज वायरल किया है जिसमे उनके पूर्व साथियों के नाम के साथ उनको भाजपा  का साथ देने व हार्दिक का विरोध करने के बदले मिली रकम का उल्लेख है. हार्दिक का दावा है की सूरत के कुछ उद्यमी बटुक मोवलिआ, मुकेश खेनी, विमल पटेल , सिद्धसर उमिया धाम के प्रमुख जेराम वंसलिया  व विश्व उमिया धाम ट्रस्ट के प्रमुख सी के पटेल  तथा उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल के करीबी ,मनसुख पटेल  इस पुरे मामले से जुड़े हैं. हार्दिक का साथ छोड़ने के बदले में सबसे अधिक नलिन कोटडिया को ३५ करोड़ व हार्दिक के खास दिनेश बामनिया को ८ करोड़ रुपये दिए गए.  हार्दिक ने इनके अलावा पास की पूर्व महिला नेता रेशमा पटेल पर भाजपा से ४ करोड़ व वरुण पटेल पर ६ करोड़ रुपये लेने का आरोप लगाया है. इनके साथ ही चिराग पटेल पर २ करोड़ केतन पटेल पर ३ करोड़ , रवि हिम्मतनगर , केतन कांधल जूनागढ़, विजय मंगुकिया पर २-२ करोड़ तथा हाल ही में पाटीदार यात्रा का एलान करने वाले सौराष्ट्र के संयोजक दिलीप साबवा पर ४ करोड़ रुपये लेकर भाजपा का साथ देने का आरोप लगाया है!
हार्दिक के इस बर्ताव से नाराज दिनेश बामनिया ने गांधीनगर के अडालज पोलिस थाने में हार्दिक के खिलाफ उन्हें बदनाम करने की शिकायत दर्ज करा दी है. पाटीदार नेता  रेशमा पटेल ने भी हार्दिक को आड़े हाथ लेते हुए कहा है की पाटीदार समाज ने हार्दिक का साथ छोड़ दिया है, हार्दिक अपनी राजनीती चमकाने के लिए समाज का उपयोग कर रहा है.  रेशमा ने हार्दिक से उलटे सवाल किया है की उनके पास पैसा नहीं था तो अपनी बहन की शादी में २० करोड़ रुपये कहाँ से खर्च दिए।  वरुण पटेल का आरोप है की हार्दिक अपनी बंद दुकान को फिर से सुरु करने के लिए एक बार सक्रीय हुआ है. राज्य में पाटीदार राजनीती एक बार फिर परवान पर है लेकिन फ़िलहाल इन नेताओं में आपस में ही महाभारत छिड़ी हुई है.  उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल व भाजपा अध्यक्ष जीतूभाई वाघानी ने सीधे हार्दिक पर पलटवार करते हुए कहा है की वह कांग्रेस के पैसों पर जलसा कर रहा है ,कांग्रेस का एजेंट बनकर पाटीदार समाज को बांटने का काम कर रहा है.

बांग्लादेश की चर्चित लेखिका तसलीमा नसरीन की कलम से : चंद हजार रुपयों के लिए बेटी को पिता शायद अपना कर्ज चुकाने व भाई व्यापार शुरु करने के लालच में दो से तीन गुना उम्र के पुरुष के साथ ब्याह देते हैं। दाल भात व कपडों के बदले वह उस परिवार का खाना पकाऐगी, बर्तन मांजेगी, कपडे धोऐगी और कोई बीमार हुआ तो सेवा व पति धर्म िनभाऐगी ही।

बांग्लादेश की चर्चित लेखिका तसलीमा नसरीन की कलम से
चंद हजार रुपयों के लिए बेटी को पिता शायद अपना कर्ज चुकाने व भाई व्यापार शुरु करने के लालच में दो से तीन गुना उम्र के पुरुष के साथ ब्याह देते हैं। दाल भात व कपडों के बदले वह उस परिवार का खाना पकाऐगी, बर्तन मांजेगी, कपडे धोऐगी और कोई बीमार हुआ तो सेवा व पति धर्म िनभाऐगी ही।
एक ही समाज से कुछ लोग दयालू, धार्मिक व संवेदनशील होते हैं तो उसी समाज के कुछ लोग चोर, ईष्यालू, लंपट, दूष्कर्मी व गुंडा टाइप के बन जाते हैं। कुछ लोग प्राणी मात्र की सेवा को ही जीवन बना लेते हैं तो कुछ खुद ही जानवर की तरह जीने लग जाते हैं। कुछ मुसलमान इस्लाम के नाम पर आतंक फैलाते हैं लेकिन बदनाम पूरा 157 करोड का समुदाय हो जाता है। लंदन में कुछ मुसलमान शरिया कानून की वकालत के बैनर लेकर खडे हो जाते हैं जबकि दुनिया को शरिया देने वाला अरब देश खुद अब अपनी बेटियों को खुलापन व सिनेमा देखने की इजाजत दे रहा है। फिर भी उन्हें शरिया से लगाव है तो बेशक ऐसे देश में जाकर रहें जहां ये कानून चलता है। मेट्रो व बसों में लडकियों को छेडने वाले छिछोरे आज भी मिल जाएंगे भीड भी इन्हें कुछ नहीं कहती लेकिन प्यार से साथ बैठे लडका लडकी की जरूर िपटाई कर डालती है। सच में लडकी व महिला को लेकर मानसिकता आज भी नहीं बदली

3 ईडियट बनने के एक लाख फार्मूले

नवप्रवर्तन व परंपरागत ज्ञान के 1 लाख फार्मूले, स्रष्टी व एनआईएफ ने खोजा भारत का ज्ञान
दाल के पत्ते से डायबिटीज, रेडवुड से ब्लड प्रेशर कंट्रोल
@शत्रुघ्न शर्मा .. थ्री ईडियट फिल्म के फुनसुख वांगडु का सीखने – सिखाने तथा नए आविष्कारों को शोधने का तरीका देश व दुनिया को खूब पसंद आया था, लेकिन अहमदाबाद के प्रोफेसर पद्मश्री अनिल गुप्ता 20 साल से देश के गांव गांव घूमकर परंपरागत ज्ञान, औषधीय फार्मूले, देहाती खान – पान के अब तक एक लाख से अधिक आईडिया जुटा चुके हैं। आईआईएमए में पढाने के साथ वे  देश की कई ऐसी प्रतिभाओं को खोज चुके हैं जिनके आईडिया से लोगों की जिंदगी को सरल बनाया जा चुका है। क्या आप जानते हैं कि तुवेर दाल के पत्तों से मधुमेह तथा रेडवुड के टुकडों से ब्लड प्रेशर नियंत्रित किया जा सकता है। तमिलनाडु के एक गांव की जीवन शैली ही ऐसी है कि वहां कोई बच्चा कुपोषित नहीं है।
प्रो अनिल गुपता ने वर्ष 1998 में गुजरात के गीर से गढडा तक शोधयात्रा निकाल कर इस अभियान की शुरुआत की थी, गांव गांव घूमकर, ग्रामीणों से मिल बैठकर उनके समाजोपयोगी परंपरागत ज्ञान पर चर्चा करना, महिलाओं के पारंपरिक व देहाती व्यंजनों के तरीकों के साथ स्कूल कॉलेज या गांव के बच्चों से उनकी समस्या पर चर्चा करना तथा उन्हीं से उसका समाधान पूछना ताकि हकीकत में उस समस्या के जड से समाप्त किया जा सके। प्रो गुप्ता साल में दो बार शोधयात्राओं का आयोजन करते हैं, यह पूरी तरह देहाती, आदिवासी या दूर दराज के वीरान गांव व जंगलों में होता है जिससे इन लोगों के पारंपरिक ज्ञान से देश व दुनिया को रुबरु कराकर मानवता का भला किया जा सके।
गुजरात, कर्नाटक व आंध्रप्रदेश में तुवेर दाल का प्रचूर उत्पादन होता है, इसके पत्तों से मधुमेह का इलाज संभव है, वैसे ही रेड वुड के टुकडों को पानी में डालकर उसे पीने से ब्लड पेशर नियंत्रित हो जाता है। स्रष्टी संस्था व नेशनल इनोवेशन फाउन्डेशन मिलकर लोगों के इस परंपरागत ज्ञान को आधुनिक विज्ञान व तकनीक से जोडकर इस ज्ञान का संरक्षण करने के साथ समाज का भी भला कर रहे हैं, स्रष्टी संस्था के हनी बी नेटवर्क के जरिए इस ज्ञान को गांव व शहरों तक पहुंचाया जाता है। तमिलनाडु के एक गांव में मकान के आगे पीछे लोग सब्जी आदि उगाते हैं, प्रचूर मात्रा में सब्जि का सेवन करने से इस गांव में एक भी बच्चा कुपोषित नहीं है, बालक पौष्टिक खुराक लेते हैं जिससे उनहें बाहर के महंगे एनर्जी ड्रिंक या शक्तिवर्धक पाउडर लेने की भी जरुरत नहीं पडती।
शोधयात्रा का अंतिम पडाव प्रो गुपता ने अंडमान निकोबार में दिगलीपुर से मायाबंदर तक 23 से 28 अप्रेल तक निकाला गया, यह 41वीं शोधयात्रा थी, जिसमें करीब 140 किमी पैदल घूमकर 17 से अधिक गांवों के महिला व पुरुषों आदि से मुलाकात कर उनसे पारंपरिक  ज्ञान पर चर्चा की तथा उनका सम्मान भी किया। चुने हुई आईडिया को साकार करने के लिए उसके तकनीकी व वैज्ञानिक पहलुओं पर चर्चा होती है उसके बाद उन्हें भारत सरकार को भेजा जाता है। पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम व प्रणब मुखर्जी अब तक दर्जनों बच्चों को ईग्नाइट अवार्ड से सम्मानित कर चुके हैं। संस्था कि वेबसाइट पर जीवन के विविध पहलुओं से जुडे एक लाख आईडिया सार्वजनिक किए जा चुके हैं तथा कई पर स्रष्टी की लैब में शोध चल रहा है।

केस 1
गांधीनगर बोरो गांव की कक्षा 4 की छात्रा ने बताया कि स्कूल में पानी पीने के सभी नल एक कतार में होते हैं जिससे छोटे बच्चों को पीने में दिक्कत होती है, यदि नलों को ऊर्रध्व आकार में लगाएें तो बच्चे अपनी लंबाई के बराबर वाले नल पर पानी पी सकते हैं।
केस 2
साबरकांठा की खुशी कक्षा 5 की छात्रा है, रोजाना गैस वैल्डिंग वाले को देखकर जिज्ञासा हुई कि चश्मा लगाने से आंख की बचत होती है लेकिन वैल्डिंग करते समय गर्म लोहे के कण वैल्डर के हाथ व शरीर पर गिरते हैं।  उसने सुझाव दिया कि वैल्डिंग के समय बडी चुंबक पास में रख दी जाए तो ये  चिंगारी के रूप में उछलने वाला लोहा उससे जा चिपकेगा। इनके अलावा भी बच्चों ने पैर से चलने वाली वाशिंग मशीन, महिला मजदूरों की मदद के लिए उपकरण तथा बिहार के एक व्यक्ति ने सडक व पानी में चलने वाली साईकिल का नवप्रवर्तन कर चुके हैं।

लोकसभा 2019: भाजपा का मिशन 300

#गुजरात के लिए चुनाव समिति का गठन, @डिप्टी सीएम, रूपाला, मांडविया आदि समिति में शामिल

#अहमदाबाद। भाजपा ने दावा किया है कि आगामी लोकसभा चुनाव में पार्टी 300 से अधिक सीट जीतकर पूर्ण बहूमत के साथ सरकार बनाऐगी। लोकसभा चुनाव के लिए गांधीनगर में 11 सदस्यीय चुनाव समिति का गठन किया जो आगामी दिनों में राज्य के विविध क्षेत्रों का दौरा कर पार्टी का चुनावी रोडमेप तैयार करेगी। पार्टी ने पिछले चुनाव में राज्य की सभी 26 लोकसभा सीट पर कब्जा किया था, इस सफलता को दोहराने के लिए भाजपा हर स्तर पर रणनीतिक रूप से तैयार कर रही है।
गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के सरकारी आवास पर बुधवार को भाजपा कोर कमेटी के सदस्यों की बैठक हुई जिसमें उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल, प्रदेश अध्यक्ष जीतूभाई वाघाणी, केनद्रीय राज्यमंत्री पुरुषोत्तम रुपाला, पार्टी प्रभारी भूपेंद्र यादव आदि नेता शामिल हुए। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन ने दावा किया है कि आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा 300 से अधिक सीट जीतकर पूर्ण बहूमत के साथ सरकार बनाऐगी।   गत लोकसभा चुनाव में भाजपा सबका साथ सबका विकास के मूलमंत्र के साथ मैदान में उतरी आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा ने साफ नीयत सही विकास के साथ मैदान में उतरने का मन बनाया है जिसके तहत भाजपा ने अपना प्रचार अभियान भी शुरु कर दिया है। केन्द्र सरकार के 4 साल पूरे होने पर आयोजित समारोहों के बाद से भाजपा ने केन्द्र व राज्य सरकार की विविध योजनाओं की उपलब्धी घर घर पहुंचाने की शुरुआत कर दी है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष जीतूभाई वाघाणी ने एक दिन पहले ही राज्य में घर घर संपर्क योजना की शुरुआत की है।
गुजरात के लिए बनाई गई लोकसभा चुनाव समिति में राज्य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल, केन्द्रीय मंत्री परशेत्तम रुपाला, मनसुख मांडविया, शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा, राजस्व मंत्री कौशिक पटेल,मंत्री गणपतसिंह वसावा, भरतसिंह परमार, भार्गव भट्ट, आई के जाडेजा, शंकर चौधरी व हीराभाई सोलंकी को शामिल किया है। वरिष्ठ नेता भरतसिंह परमार ने बताया कि यह समिति राज्य में चुनावी तैयारी की रूपरेखा तैयार करेगी। राज्य की सभी 26 लोकसभा सीटों का आंकलन कर पार्टी आलाकमान को रिपोर्ट सौंपेगी जिसके बाद सीट वार चुनावी रणनीति व उम्मीदवारों का चयन होगा।

गुजरात की लैब में तैयार हो रही गॉड मदर,

19 साल की भूरी कैसे बन गई अपराधी
शत्रुघ्न शर्मा **बेखौफ अंदाज, हसीन अदाएं, कातिल निगाहों के साथ कोई हसीना जब हाथ में तलवार व पिस्तौल उठा ले तो कहर तो बरपेगा ही। बिंदास लाइफ के चलते परिवार से अलग लिव इन रिलेशनशिप में रह रही अस्मिता गोहिल उर्फ लेडी डॉन भूरी की धमक से आजकल डायमंड सिटी सूरत थर थर कांप रही है। उसका यही बैखौफ अंदाज व अपराध करने की अदा उसे गुजरात की दूसरी गॉड मदर बनने की राह पर ले जा रहा है।
गुजरात में इन दिनों 19 वर्षीय लेडी डॉन अस्मिता गोहिल उर्फ भूरी खूब चर्चा में है। हफ्ता वसूली, लूट व दबंगई की आधा दर्जन से अधिक घटनाओं के कारण इस खूबसूरत हसीना की कहानी टीवी मीडिया के प्राइम टाइम के जरिए प्रदेश के घर घर में पहूंच गई है। हाथ में तलवार, पिसतौल की नोंक ओर धूम बाईक की सवारी के शौक ने उसे घर से अलग तो कर ही दिया अब वह गुजरात की दूसरी गॉड मदर बनने की राह पर है, सिल्क व डायमंड सिटी सूरत में उसकी धमक सिर चढकर बोल रही है।
गुजरात के काठियावाड की संतोकबेन जाडेजा उर्फ गॉड मदर ने एक जमाने में खूब नाम कमाया था, पति श्रवण मुंजा की हत्या के बाद गॉड मदर ने पोरबंदर के समुद्री किनारे पर चलने वाले सभी अवैध कारोबार की बागडोर खुद संभाल ली थी लेकिन एक लंबे अर्से के बाद एक बार फिर गुजरात में छोटी गॉड मदर उभरकर सामने आई है। अस्मिता उर्फ भूरी गोहिल भी उसी काडियावाड इलाके से हैं जहां कभी गॉड मदर का राज चलता था। सुंदर नैन नक्श, कमनीय काया व फैशन के साथ अपनी धमक दिखाने की शौकीन भूरी की उम्र महज 19 साल है लेकिन सूरत के वराछा इलाके में उसका खौफ ऐसा है कि उसके नाम से लोग थर थर कांपते हैं। गत दिनों सोशल मीडिया पर हाथ में तलवार लिए शहर में बाइक पर निकली एक लडकी की वीडियो वायलर हुआ, उसके बाद वही लडकी अपने कुछ साथियों के साथ कुछ लडकों की पिटाई करते नजर आई यह और कोई नहीं लेडी डॉन भूरी थी।
वराछा पुलिस ने हफता वसूली, एम्ब्रोईडरी कारखाने में तोडफोड व धमकी के आधा दर्जनमामले सामने आने के बाद इस लेडी डॉन को गिरफ्तार कर अदालत लेकर गई तो उसका अंदाज फिल्म बैंडिट क्वीन की हीरोईन जैसा था। मुंह भले कपडे से ढंका था लेकिन पुलिस घेरे में रहकर भी वह दोनों हाथ जोडते हुए लोगों का अभिवादन कर रही थी। मीडिया ने जब उन्हें लेडी डॉन कहकर संबांधित किया तो उसने बडी साफगोई से जवाब दिया कि वह कोई डॉन नहीं है, उसने कोई अपराध नहीं किया। पर जाते जाते अभी जाने दो, जय माताजी की का संबोधन कर वह अपना अंदाज बयां करने से नहीं चूकी।
वराछा पुलिस निरीक्षक मयूर पटेल बताते हैं कि भूरी एक साल से हत्या के आरोपी संजय के साथ लिव इन रिलेशनशिप में है, भावनगर में अपने परिवार के साथ रहती थी लेकिन मनमुटाव होने के बाद सूरत में अपने काका के पास आ गई थी लेकिन वहां भी ज्यादा समय नहीं रुकी। मयूर पटेल बताते हैं कि अस्मिता गोहिल उर्फ भूरी आदतन अपराधी है तथा उसके खिलाफ कई मामले दर्ज हैं। मूल रूप से वह गिर सोमनाथ उऊना तहसील के गांव गंगाडा की रहने वाली है। सूरत सिटी कोर्ट ने फिलहाल इस लेडी डॉन व उसके साथी राहुल को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है वह फिलहाल सूरत की लाजपोर जेल में बंद है।

भाजपा के पूर्व विधायक ने जताया एनकाउन्टर का डर

परिवार के साथ आत्मदाह की दी धमकी
#गुजरात बीटकोइन ठगी मामला
अहमदाबाद। भाजपा के पूर्व बागी विधायक नलिन कोटडिया ने आशंका जताई है कि करोडों के बिटकोइन ठगी मामले में उनका एनकाउन्टर हो सकता है, इस मामले में कोटडिया का कहना है कि मुख्य शिकायतकर्ता शैलेष भट्ट को गिरफ्तार नहीं किया गया तो वे अपने परिवार के साथ आत्मदाह कर लेंगे। कोटडिया का दावा है कि यह 12 करोड नहीं 240 करोड की ठगी का मामला है जिसमें कई बडे प्रभावशाली लोग भी शामिल हैं।
पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई की गुजरात परिवर्तन पार्टी से चुनाव जीतने के बाद कोटडिया अपनी पार्टी के साथ  भाजपा में शामिल हो गए थे। गत राष्ट्रपति चुनाव के दौरान कोटडिया का भाजपा से मनमुटाव हो गया था। सूरत के बिल्डर शैलेष भट्ट से सीबीआई व गुजरात पुलिस के अधिकारियों ने करोडों के बीटकोईन व नकदी ठगी के मामले में गांधीनगर सीआईडी क्राइम मामले की जांच कर रही है। कोटडिया के करीबी किरीट पालडिया की इसमें मुख्य सूत्रधार की भूमिका है, पालडिया को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है लेकिन गिरफ्तारी के भय से पूर्व विधायक नलिन कोटडिया कई दिनों से भूमिगत हो गए हैं। कोटडिया ने एक वीडियो सोशल मीडिया में पोस्ट कर गुजरात के पुलिस अफसरों को भी धमकाने का प्रयास किया है, इसमें कोटडिया ने बताया है कि राज्य के कई बडे नेता उनसे बीटकोइन मामले में समाधान के लिए संपर्क में हैं, इसलिए पुलिस उनके खिलाफ साच समझकर कार्यवाही करे।
कोटडिया ने भूमिगत रहते ही खुद के एनकाउन्टर की आशंका जताई है उनका कहना है कि इस मामले में सच को दबाने के लिए उनका एनकाउन्टर हो सकता है। उनका दावा है कि 12 करोड के करीब का ठगी मामला 240 करोड का है, इस मामले की निष्पक्ष जांच के लिए शिकायतकर्ता शैलेष भट्ट को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। कोटडिया ने शैलेष को गिरफ्तार नहीं करने पर खुद परिवार सहित आत्मदाह की चेतावनी दी है। पूर्व विधायक कोटडिया को इस मामले में 66 लाख रुपए मिले थे जिनमें से करीब 25 लाख राजकोट के एक बिल्डर से पुलिस बरामद कर चुकी है।